ग़ज़ल ----

 

कुछ  नायाब  ख़ज़ाने   रख

ले    मेरे    अफ़साने    रख  

 

जिनका   तू     दीवाना   हो 

ऐसे    कुछ    दीवाने    रख 

 

आख़िर  अपने   घर  में  तो 

अपने   ठौर - ठिकाने   रख 

 

मुझसे   मिलने - जुलने  को 

अपने   पास    बहाने    रख 

 

वर्ना     गुम     हो     जाएगा 

ख़ुद  को  ठीक-ठिकाने  रख

 

 

ग़ज़ल ----

 

मुझको  अपने  पास  बुला  कर

तू  भी  अपने   साथ   रहा  कर

 

अपनी   ही   तस्वीर   बना  कर 

देख  न  पाया  आँख  उठा  कर

 

बे  -  उन्वान      रहेंगी       वर्ना 

तहरीरों   पर  नाम   लिखा  कर 

 

सिर्फ़     ढलूँगा    औज़ारों     में

देखो  तो  मुझको   पिघला  कर

 

सूरज  बन  कर  देख  लिया  ना 

अब  सूरज-सा  रोज़  जला  कर 

 

  विज्ञान  व्रत

 9810224571

 

एन - 138 , सैक्टर - 25 , 

नोएडा - 201301